अमन सिंह की अग्रिम जमानत पर फैसला सुरक्षित

प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री के सचिव और प्रमुख सचिव रहे अमन सिंह व उनकी पत्नी यास्मिन सिंह की अग्रिम जमानत अर्जी पर हाईकोर्ट के जस्टिस राकेश मोहन पांडेय ने फैसला सुरक्षित रख लिया है। इससे पहले लोअर कोर्ट से अग्रिम जमानत अर्जी खारिज हो चुकी है। सुप्रीम कोर्ट ने उनके खिलाफ FIR रद्द करने के आदेश को निरस्त कर दिया है। साथ ही तीन महीने के लिए उन्हें राहत देते हुए राज्य शासन को पुलिसिया कार्रवाई नहीं करने का आदेश दिया था।

राज्य शासन की तरफ से अतिरिक्त महाधिवक्ता अमृतोदास और सामाजिक कार्यकर्ता उचित शर्मा की ओर से जमानत देने का विरोध किया गया। साथ ही कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने जब एफआईआर निरस्त करने के आदेश को ही खारिज कर दिया है, तब यह मामला और भी गंभीर हो गया है। ऐसे में उन्हें जमानत देना उचित नहीं है। हाईकोर्ट में सुबह 10.30 से दोपहर एक बजे लंच होते तक बहस चली। फिर भोजन अवकाश के बाद दोपहर 3.30 बजे तक जिरह चलती रही। लंबी सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया है। साथ ही कोर्ट का फैसला आते तक याचिकाकर्ताओं के खिलाफ पुलिसिया कार्रवाई नहीं करने का आदेश दिया है।

 

Leave a Comment